प्रकाशन

प्रयास संस्थान, चूरू द्वारा समय - समय पर विभिन्न प्रकाशन करने की योजना को मूर्त रूप देने का प्रयास किया गया :-














स्‍मारिका-7
डॉ. घासीराम वर्मा साहित्‍य पुरस्‍कार-2011 पर केन्द्रित अंक

स्‍मारिका-6
राजस्‍थानी साहित्‍यकार सम्‍मेलन, चूरू (11-12 सितम्‍बर, 2010) पर केन्द्रित अंक।

स्‍मारिका-5
डॉ. घासीराम वर्मा साहित्‍य पुरस्‍कार-2010 पर केन्द्रित अंक


प्रयास स्मारिका - 4 :- प्रयास संस्‍थान द्वारा राजस्‍थान के हिन्‍दी लेखन को समर्पित वार्षिक आयोजन 'डॉ. घासीराम वर्मा साहित्‍य पुरस्‍कार वितरण समारोह' की दूसरी आवृत्ति 28 सितम्‍बर, 2009 को चूरू जिला मुख्‍यालय के सूचना केंद्र में साक्षात हुई।
इस अवसर पर संस्‍थान की ओर से विज्ञापनदाताओं के सहयोग से नि:शुल्‍क वितरण हेतु स्‍मारिका 'प्रयास-4' का प्रकाशन किया गया। जिसमें पुरस्‍कृत साहित्‍यकार मनीषा कुलश्रेष्‍ठ, पुरस्‍कृत कृति 'कठपुतलियां', डॉ. घासीराम वर्मा व समारोह के भागीदार अतिथियों पर प्रकाश डाला गया है।

प्रयास स्मारिका- ३ :- राजस्थान के झुंझनु जिले के सिगरी गाँव में जन्में घासीराम वर्मा ने गरीबी में पलते हुए अमेरिका के रोडे आईलेंड किंग्स्टन यूनिवर्सिटी में गणित के प्रोफेसर तक का सफर तय कर एक मिसाल ही पेश नहीं की अपितु आपने वेतन मेंसे लगभग ५ करोड़ रूपये राजस्थान की बालिकाओं की शिक्षार्थ छात्रावासों के निर्माण में लगायें। उनकी मदद के कारण हजारों निर्धन बालिकाओं ने छात्रावासों में रहकर शिक्षा पूर्ण की। अमेरिका में रहकर हिन्दी के प्रति समर्पित रहे तथा हिन्दी के गीत गाते रहे। उनके बिना यशलिप्सा के कामकम सम्मान करते हुए संस्थान ने राजस्थान के हिन्दी लेखकों के लिए सालाना "डॉ घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार" शुरू किया। पहले वर्ष संस्थान कार्यकारिणी ने जोधपुर के डॉ सत्यनारायण की कहानी पुस्तक "सितम्बर में रात" को पुरस्कार के लिए चुना। २००८ के समारोह का आयोजन २५ सितम्बर २००८ को किया गया। चूरू में हुए उक्त समारोह की स्थाई स्मृति निमित्त इस स्मारिका का प्रकाशन किया गया। स्मारिका में डॉ वर्मा व पुरस्कार प्राप्तकर्ता के विषय में आलेख समाहित किए गये। स्मारिका समारोह समारोह में नि:शुल्‍क वितरित की गयी।



















प्रयास स्मारिका- २ :-
राजस्थानी व हिन्दी के सशक्त हस्‍ताक्षर श्री दुर्गेश (चूरू) का १८ नवम्बर २००७ को आकस्मिक निधन हो गया। उनका प्रयास संस्थान से लगाव था। संस्थान द्वारा आयोजित पोथी चर्चा ३० नवम्बर २००४ के कार्यक्रम के श्री दुर्गेश ही संयोजक थे। उनकी स्मृति में संस्थान ने राजस्थानी लघुकथा प्रतियोगिता का आयोजन किया। पुरस्कार वितरण का कार्यक्रम श्री दुर्गेश की जयंती २५ मार्च २००८ को रखा गया। इस अवसर पर श्री दुर्गेश केंद्रित स्मारिका का प्रकाशन किया गया। दुर्गेश पर केंद्रित आलेख व प्रतियोगिता के विषय में जानकारी प्रकाशित की गयी। स्मारिका जयंती समारोह में नि:शुल्‍क वितरित की गयी।


















प्रयास स्मारिका - १ :-
राजस्थान साहित्यकार समेलन, तारानगर (७-८ नवम्बर, २००८) की स्मृतियों को स्थाई बनाने के निमित्त इस स्मारिका का प्रकाशन किया गया। उक्त समारोह में ही इस स्मारिका का विमोचन किया गया। स्मारिका विज्ञापनदातायो के सहयोग से प्रकाशित की गयी अतएव समारोह में वितरित कर दी गयी। स्मारिका में समारोह में पढे गये तीनों पर्चे खासतौर पर प्रकाशित किए गये।